DelhiStateगुड मॉर्निंग न्यूज़टॉप न्यूज़देशराज्य
Trending

वेदांता ने ट्रांसजेंडरों के लिए अपनाई अनूठी समावेशन नीति

· सबको शामिल करने की अपनी समावेशी नीति के तहत कर्मचारियों के लिए की चिकित्सा और अवकाश संबंधी अतिरिक्त फायदों की घोषणा

· वेदांता समूह की कंपनी हिंदुस्तान जिंक ने मनाया एक महीने तक चलने वाली समावेशिता पहल ‘ज़िनक्लूजन’ का जश्न

नई दिल्ली (24 समाचार)। कार्यस्थल पर सबको समान अवसर प्रदान करने और विविधता को बढ़ावा देने के प्रयास में वैश्विक स्तर पर विविधीकृत प्राकृतिक संसाधन कंपनी वेदांता लिमिटेड ने अपने ट्रांसजेंडर कर्मचारियों के लिए एक अनूठी समावेशन नीति शुरू की है। इस नीति की घोषणा हिंदुस्तान जिंक द्वारा लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी के साथ आयोजित एक इंटरैक्टिव जागरूकता सत्र के दौरान की गई थी। यह सत्र विविधता और समावेशन को बढ़ावा देने पर केंद्रित था। कंपनी ने अपनी पहल ‘ज़िनक्लूजन’ के एक हिस्से के रूप में प्राइड मंथ के तहत लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी और ईला डी’वर्मा जैसे जैसे सम्मानित अतिथि वक्ताओं के साथ इंटरेक्टिव सेशन का आयोजन किया।

अपनी इस व्यापक नीति के तहत वेदांता 30 दिन का जेंडर रीअफरमेशन अवकाश और जेंडर रीअफरमेशन सर्जरी के लिए 2 लाख रुपए तक की वित्तीय सहायता के रूप में अतिरिक्त चिकित्सा लाभ प्रदान कर रहा है। पॉलिसी के तहत दिए गए अनूठे लाभ अपने सभी कर्मचारियों के लिए एक समावेशी और सम्मानजनक कामकाजी माहौल को बढ़ावा देने की कंपनी की प्रतिबद्धता को उजागर करते हैं।

समावेशन नीति की लॉन्चिंग की घोषणा करते हुए, प्रिया अग्रवाल हेब्बर, चेयरपर्सन, हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड और नॉन एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर, वेदांता लिमिटेड ने कहा, ‘‘वेदांता में हम सक्रिय रूप से एक ऐसी संस्कृति को विकसित करने में लगे हुए हैं जिसमें विविधता को पूरा स्थान दिया जाता है। इस तरह हम सभी लोगों के लिए समान अवसर सुनिश्चित करते हैं। इसी क्रम में मैं कंपनी की नई समावेशन नीति के लॉन्च की घोषणा करते हुए खुशी का अनुभव कर रही हूं। यह पॉलिसी ट्रांसजेंडर कर्मचारियों का समर्थन करने के लिए हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाती है। इस नीति के साथ, हमारा लक्ष्य एक ऐसा वातावरण बनाना है जो न केवल ट्रांसजेंडर कर्मचारियों की खास किस्म की जरूरतों और अनुभवों को पहचानता है, बल्कि उनकी भलाई और व्यक्तिगत विकास को भी बढ़ावा देता है।’’

‘ज़िनक्लूजन’ में सत्र को संबोधित करते हुए एक्टिविस्ट, अभिनेत्री, भरतनाट्यम नृत्यांगना, प्रेरक वक्ता और उद्यमी लक्ष्मीनारायण त्रिपाठी ने कहा, ‘‘यह देखना वाकई अद्भुत है कि अग्रणी कॉर्पोरेट कंपनियां विविधता और समावेशन नीतियों को सक्रिय तौर पर अपना रही हैं। मेरा मानना है कि वेदांता हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड द्वारा अपने ट्रांसजेंडर कर्मचारियों के लिए घोषित चिकित्सा लाभ नीतियांे की सहायता से पूरे संगठन में समावेशिता को अपनाने में काफी मदद मिलेगी। यह समानता लाने और सभी के लिए रोजगार के अवसर सुनिश्चित करने के प्रति संगठन की प्रतिबद्धता को और मजबूती से दोहराता है।’’

नई पॉलिसी के फायदों के अलावा, वेदांता ग्रुप निरंतर प्रशिक्षण और कार्यशालाओं के माध्यम से विविधता, समावेश और सामाजिक जिम्मेदारी को बढ़ावा देने में सबसे आगे रहा है। इन पहलों का उद्देश्य कर्मचारियों को सभी के लिए एक समावेशी कार्यस्थल बनाने के महत्व के बारे में शिक्षित और संवेदनशील बनाना है। कंपनी ने 2050 तक अपने लीडरशिप रैंकों में 40 प्रतिशत समावेशिता बेंचमार्क हासिल करने का रणनीतिक लक्ष्य भी निर्धारित किया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
×

Powered by WhatsApp Chat

×