राज्य

अभाविप की ‘न्याय हुंकार सभा’ में हज़ारों छात्रों ने राजस्थान की दुष्कर्म पीड़िताओं के लिए मांगा न्याय।

राजस्थान में महिला उत्पीड़न, पेपरलीक व भ्रष्टाचार के विरोध में अभाविप की 'न्याय हुंकार सभा' हुई आयोजित।

जयपुर (24 समाचार)। गुरूवार अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने राजस्थान में महिलाओं के साथ लगातार हो रहे जघन्य अपराध, पेपरलीक की घटनाओं तथा भ्रष्टाचार के विरोध में राजस्थान विश्वविद्यालय में विशाल ‘न्याय हुंकार सभा’ आयोजित की। ‘न्याय हुंकार सभा’ में राजस्थान के विभिन्न जिलों से हजारों छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। ‘न्याय हुंकार सभा’ में करौली में दुष्कर्म के बाद मार दी गई बेटी के परिवारजन शामिल हुए तथा दुखद घटना के बारे में युवाओं को बताया‌ तथा सरकार की अपराधों को रोकने में विफलता को रेखांकित किया।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने राजस्थान में लगातार महिलाओं के साथ हो रहे वीभत्स अपराधों , पेपरलीक की घटनाओं तथा भ्रष्टाचार के विरोध में 03 अगस्त को करौली से न्याय पदयात्रा शुरू की थी। यह पदयात्रा करौली से जयपुर तक लगभग 180 किमी की यात्रा तय कर आज राजस्थान विश्वविद्यालय पहुंची। राजस्थान विश्वविद्यालय में आयोजित हुई ‘न्याय हुंकार सभा’ में एकजुट हुए युवाओं ने एकसुर में राजस्थान में भय से भरे हुए तथा भ्रष्टाचारी वातावरण की निंदा की।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री याज्ञवल्क्य शुक्ल ने कहा कि,” राजस्थान का युवा अन्याय के विरुद्ध बिगुल बजा चुका है। राजस्थान में अपराध का आंकड़ा दुर्भाग्यपूर्ण ढंग से बढ़ रहा है, राजस्थान में युवा शक्ति अन्याय व अत्याचार के विरुद्ध एकजुट है। अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद अपनी आवाज तब तक उठाती रहेगी जब तक प्रदेश में अपराध खत्म नहीं हो जाता।बेरोज़गारी, भ्रष्टाचार तथा पेपरलीक से राजस्थान के युवाओं के भविष्य पर संकट वर्तमान में संकट है।”

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय मंत्री हुश्यार मीणा ने कहा कि,” राजस्थान में जिस प्रकार से जनजाति बहनों के साथ अत्याचार व अपराध की घटनाएं हो रही हैं, वह अत्यंत दुखद व शर्मनाक हैं। राजस्थान में महिलाओं के साथ आज वही दुखद स्थिति है जो मुगलों के क्रूर शासन के दौरान हुआ करती थी‌। गहलोत सरकार की अपराधियों पर कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं हो रही क्योंकि कुछ अपराधों में प्रदेश सरकार में शामिल लोगों के परिवारीजन शामिल हैं।”

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री आशीष चौहान ने कहा कि,” आज राजस्थान प्रदेश का युवा त्रस्त है-पीड़ा में है। विद्यार्थी परिषद की न्याय यात्रा उस पीड़ा को दिखाने का साधन रही है। आज प्रदेश सरकार के शासन में युवा अपने आप को कमजोर व  शक्तिहीन पा रहा है। करौली सहित विभिन्न स्थानों पर प्रदेश में महिलाओं के साथ हुए जघन्य अपराध पीड़ा देने वाले हैं। नेतृत्व जहां उदाहरण देने वाला होना चाहिए वहीं राजस्थान का नेतृत्व पीड़ा देने वाला है। राजस्थान आज विभिन्न क्षेत्रों में पीछे चल रहा है। राजस्थान सरकार अपनी ताकत को अपराधियों को बचाने में लगा रही है।”

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री श्री प्रफुल्ल आकांत ने कहा कि,” राजस्थान में अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाने वाले छात्रों को राजस्थान सरकार पुलिसिया दमन से डराने का प्रयास कर रही है, लेकिन छात्र डरेगा नहीं। राजस्थान में अपराध की घटनाएं डरावनी हैं, आज राजस्थान की विफल सरकार से प्रदेश को मुक्ति दिलाने का संकल्प प्रदेश के हर युवा ने ले लिया है। प्रदेश के युवाओं का जीवन बर्बाद करने वाली राजस्थान सरकार को प्रदेश की जनता लोकतांत्रिक जवाब देगी। अभाविप की ‘न्याय पदयात्रा’ राजस्थान में सरकार के अन्याय के विरुद्ध बिगुल है।”

राजस्थान विश्वविद्यालय में हजारों विद्यार्थियों की उपस्थिति में संपन्न हुई ‘न्याय हुंकार सभा’ में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री याज्ञवल्क्य शुक्ल, राष्ट्रीय मंत्री हुश्यार मीणा, राष्ट्रीय संगठन मंत्री आशीष चौहान, राष्ट्रीय सह-संगठन मंत्री प्रफुल्ल आकांत , केन्द्रीय कार्यसमिति सदस्य पूनम शेखावत, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य गौतमी अहिरावल, अभाविप जयपुर प्रांत मंत्री शौर्य जर्मन, अभाविप जोधपुर प्रांत मंत्री श्याम शेखावत, अभाविप चित्तौड़ प्रांत मंत्री हर्षित निनोमा, अभाविप राजस्थान विश्वविद्यालय इकाई अध्यक्ष भारत यादव ने संबोधित किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
×

Powered by WhatsApp Chat

×